झारखंड में बिहार सरकार की गाड़ी पर लगा था इतने हजार का जुर्माना, जानिए क्या है पूरा कारण..

0
146
BR JH

[ad_1]

डेस्क: अगर आप बिहार से हैं, और इस समय झारखंड में अपना वाहन चला रहे हैं, तो यह खबर जरूर पढ़ें, नहीं तो आपको पछताना पड़ सकता है, क्योंकि झारखंड सरकार ने बिहार के वाहनों के लिए एक बड़ा फैसला लिया है, तो आइए आपको बताते हैं, आखिर झारखंड सरकार ने बिहार सरकार के वाहन के हित में क्या निर्णय लिया है.

दरअसल, इन दिनों झारखंड की राजधानी रांची में वाहनों में अवैध बोर्ड और नेम प्लेट लगाने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है, इस दौरान बिहार सरकार और रांची विश्वविद्यालय के अधिकारियों की नेम प्लेट हटा दी गयी. अभियान में वाहनों के अन्य दस्तावेजों की जांच की गई। 17 वाहनों से 26,500 रुपये जुर्माना वसूला गया।

आपको बता दें कि इस गहन जांच के दौरान कई कारों में अवैध रूप से बोर्ड लगाए गए थे. इसमें बिहार सरकार के शहरी विकास विभाग के अधीक्षण अभियंता रांची विश्वविद्यालय के छात्र कल्याण के डीन के वाहन पर भी बोर्ड लगे थे. सभी का बोर्ड तुरंत हटा दिया गया। उस पर जुर्माना भी लगाया गया था। इसके अलावा विहिप के प्रदेश अध्यक्ष के वाहन से भी बोर्ड हटा दिया गया। उसी कार पर अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन का बोर्ड लगा था, उसे भी तुरंत हटा दिया गया.

रांची के जिला परिवहन अधिकारी प्रवीण कुमार प्रकाश ने यह जानकारी देते हुए बताया कि विभिन्न प्रकार के निजी-वाणिज्यिक वाहनों के आगे और पीछे विभिन्न प्रकार के विशेष संकेतक बोर्ड लगाए जा रहे हैं. अलग-अलग रंगों में लिखे जाने से लोगों के वाहनों की विशिष्टता का संदेह पैदा होता है और यातायात की आवाजाही प्रभावित होती है। कई मौकों पर एंबुलेंस को भी आवाजाही में रुकावट का सामना करना पड़ता है और जो मरीज ले जा रहे हैं उन्हें परेशानी होती है. जिला परिवहन अधिकारी ने कहा कि समय-समय पर नियमित रूप से जांच अभियान चलाया जाएगा. उन्होंने मोटर वाहन चालकों-मालिकों को शासनादेश का पालन करने का निर्देश दिया।

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here