बिहार में करोड़ों की लागत से बनेगा फूड पार्क हब, मखाना और लीची का बनेगा नेटवर्क.. मिलेगा रोजगार

0
309

[ad_1]

डेस्क: बिहार अब औद्योगिक विकास के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ने की तैयारी कर रहा है. वैसे तो बिहार एक कृषि प्रधान राज्य है। जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि बिहार के केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय द्वारा अगले कुछ दिनों में राज्य में लीची और मखाने की खेती बड़े क्षेत्र में की जाती है, जिसे बड़े देशों में भी पहुंचाया जाता है। कई मिनी फूड पार्क बनाए जाएंगे।

आपको बता दें कि भारत सरकार बिहार में फूड पार्कों की स्थापना के लिए 10 करोड़ से लेकर 50 करोड़ तक का अनुदान देने जा रही है, सर्वेक्षण के माध्यम से विशेष क्षेत्रों का चयन करना होगा, कच्चे माल की उपलब्धता, गुणवत्ता, कोल्ड चेन नेटवर्क जैसे आधारभूत संरचना तैयार करने के लिए अनुदान के रूप में अच्छी राशि का प्रावधान है।

आपको बता दें कि मिनी फूड पार्क खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों का एक परिसर है, जहां उनकी सुविधा के लिए एक ही परिसर में कई खाद्य प्रसंस्करण औद्योगिक इकाइयां स्थापित की जाती हैं, कोल्ड प्लांट, पैकेजिंग प्लांट और पीस, रिफाइनिंग और गुणवत्ता नियंत्रण परिसर के लिए परिसर। इसकी सहायक इकाई है, कोल्ड वैन जैसी लॉजिस्टिक सहायता भी उपलब्ध है, इस सब पर प्रत्येक उद्यमी का अलग-अलग निवेश नहीं करने के कारण उत्पादन की लागत बहुत कम हो जाती है।

वही केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री पशुपति कुमार पारस ने कहा कि हमारे मंत्रालय ने बिहार में बड़े पैमाने पर मखाना, लीची, केला, आलू, मक्का पर आधारित खाद्य प्रसंस्करण उद्योग स्थापित करने की योजना तैयार की है, इसके लिए मिनी फूड पार्क स्थापित किए जाएंगे. .

[ad_2]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here