बिहार की वह वीरांगना जिसने महात्मा गांधी का पैर छूने से कर दिया था मना | The heroine of Bihar who refused to touch Mahatma Gandhi’s feet

0
85

अंग्रेजी हुकूमत से भारत को आजादी दिलवाने वाले, ‘राष्ट्रपिता’ महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की जयंती पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के बीच महात्मा गांधी सर्वमान्य थे। उनका सभी आदर करते थे। लेकिन आज हम आपको बिहार की एक ऐसी वीरांगना के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने महात्मा गांधी के पैर छूने से मना कर दिया था। हम बात कर रहे हैं बिहार के तत्कालीन सारण और वर्तमान सिवान जिले के महान स्वतंत्रता सेनानी शहीद फुलेना बाबू और उनकी पत्नी तारा देवी की। 1942 में जब महात्मा गांधी ने ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन की घोषणा की थी, उस समय सिवान के महाराजगंज में इस आंदोलन का नेतृत्व इसी दंपत्ती ने संभाल रखा था।

एक वीरांगना का अनोखा देशप्रेम

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महाराजगंज के शहीद फुलेना बाबू और तारा देवी का त्याग और बलिदान अविस्मरणीय है। कम उम्र में तारा देवी की शादी आजादी के दीवाने फुलेना बाबू से हो गई थी। दोनों महाराजगंज इलाके में आजादी की अलख जगाने में लगे थे। सिवान का बंगरा इकलौता ऐसा गांव है, जहां से 27 लोग स्वतंत्रता सेनानी हुए। जिनमें एकमात्र स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह अब भी जीवित और स्वस्थ हैं। वे फुलेना बाबू और तारा देवी के साथ आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे। हालांकि तब मुंशी सिंह 8वीं कक्षा के छात्र थे। लेकिन उनका जज्बा देख स्वाधीनता संग्राम के बड़े नेता भी उन्हें अपना सानिध्य देते थे। मुंशी सिंह ने एनबीटी को तारा देवी के जीवन की कई बातें बताईं।

महात्मा गांधी का पैर छूने से किया इनकार

स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह ने पुरानी बातों को याद करते हुए बताया कि एक बार बनारसी दास चतुर्वेदी तारा देवी को लेकर महात्मा गांधी से मिलने पहुंचे। कहा जाता है कि वहां तारा देवी से महात्मा गांधी के पैर छूकर आशीर्वाद लेने को कहा गया। लेकिन तारा देवी ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि देश की आजादी की लड़ाई में महात्मा गांधी से अधिक योगदान उनका है। आजादी की लड़ाई में उन्होंने अपने पति का बलिदान दिया है। ऐसे में महात्मा गांधी का पैर क्यों छुएं। यह सुन कर वहां खड़े सारे लोग स्तब्ध रह गए। मुंशी सिंह कहते हैं कि तारा देवी स्वभाव से ही क्रांतिकारी थीं। बहुत ही स्वाभिमानी वीरांगना थीं। किसी के सामने नहीं झुकती थीं।

पति से कहा था– आजाद भारत में ही दूंगी बच्चे को जन्म
एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिसने शादी की पहली रात पति के साथ प्रण किया कि देश आजाद होने पर ही बच्चे को जन्म देंगे। तब तक वह कुंवारी बनकर रहेंगी। हम बात कर रहे हैं बिहार के तत्कालीन सारण और वर्तमान सिवान जिले के महान स्वतंत्रता सेनानी शहीद फुलेना बाबू और उनकी पत्नी तारा देवी की। 1942 में जब महात्मा गांधी ने भारत छोड़ो आंदोलन की घोषणा की थी, उस समय सिवान के महाराजगंज में इस आंदोलन का नेतृत्व इसी दंपती ने संभाल रखा था। आजादी मिलती और इनका प्रण पूरा होता। दांपत्य जीवन की गाड़ी आगे बढ़ती, इससे पहले नियति को कुछ और ही मंजूर था। 16 अगस्त 1942 को महाराजगंज थाने पर तिरंगा फहराने के दौरान अंग्रेजी हुकूमत की गोली से फुलेना बाबू शहीद हो गए। तब तारा देवी ने अपने पति के शव के साथ पूरी रात अकेले बिताई थी। उन्होंने कहा था कि आज ही हमारी शादी हुई है।

फुलेना बाबू और तारा देवी का त्याग

16 अगस्त 1942 को महाराजगंज थाने पर तिरंगा फहराने के लिए महान स्वतंत्रता सेनानी फुलेना बाबू और उनकी पत्नी तारा देवी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में क्रांतिकारी युवा लगातार आगे बढ़ रहे थे। उस वक्त महाराजगंज थाने के दारोगा थे रहमत अली। थाने की तरफ आती भीड़ को रोकने के लिए रहमत अली और थाने में तैनात सिपाहियों ने भीड़ के ऊपर बंदूकें तान दीं। पुलिस को एक्शन में देख क्रांतिकारियों के कदम ठहर गए। वहां अफरातफरी मच गई। स्वतंत्रता सेनानी मुंशी सिंह बताते हैं कि तब उनकी उम्र 12 वर्ष थी लेकिन आगे कि पंक्ति में फुलेना बाबू और तारा देवी के साथ वो भी खड़े थे। मुंशी सिंह के मुताबिक दारोगा रहमत अली ने फुलेना बाबू को निशाने पर लेकर वापस लौट जाने का हुक्म दिया। वैसे तो फुलेना बाबू बंदूक से डरने वालों में नहीं थे। लेकिन उनसे पहले तारा देवी ने ही उन्हें आगे बढ़ने को कहा। जैसे ही फुलेना बाबू आगे बढ़े पुलिस ने गोलियां बरसानी शुरू कर दी। फुलेना बाबू को 9 गोलियां लगी। वे वहीं गिर पड़े।

घायल पति को छोड़ आंदोलन का नेतृत्व

फुलेना बाबू और तारा देवी के जीवन का लक्ष्य देश को आजादी दिलाना था। मुंशी सिंह ने कहा कि फुलेना बाबू को गोली लगने के बाद जनता बेकाबू हो गई। पुलिस भीड़ पर गोलियां बरसा रही थी और इधर से ईंट-पत्थर चलाये जा रहे थे। तब थाने को जला देने का फैसला किया लिया गया। फुलेना बाबू को गोली लगने के बाद तारा देवी विचलित नहीं हुईं। बल्कि साथियों के

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here